Monthly Archives: December 2017

सृजन

दुनिया से बेख़बर

मीठी जीत लिए चले हमसफ़र

छोटी सी दुनिया का ख़्वाब लिए

इक दूजे का हाथ थामे हुए

चल तो दिए सफ़र पर

सोच लिया करेंगे सृजन

इक नयीं ज़मीं पर

आँखों में लिए स्वप्न

माना मुश्किल होगी राह बहुत

पर प्यार और वफ़ा से हैं दोनो बने सख़्त

इस जहाँ में न जगह दी किसी ने

रसवैयों तले दोनो हैं लिप्त

फिर भी सबसे परे सुंदर स्वप्निल संसार ही बसाया

करके इक दूसरे को सम्पूर्ण और दिप्त

ना शिकवा, ना शिकायत, ना ग़ुस्सा किसी से

बस वफ़ा के ख़ुमार में

अपने संसार में बस

हैं दोनों आह्लादित आनंदित

जब गूँजी किलकारी उनके आँगन में

हुआ सृजन प्रेम का कुसुमित

पुलकित हुए दोनों पाकर

एक नहीं दो दीप हुए प्रज्वलित

हुआ ‘स्वास’ और ‘तासु’ का प्रवेश

कर गया उनको सम्पूर्ण समर्पित

छोटी सी दुनिया, संसार अद्वितीय

संसार में किन्तु………संसार से परे

अलौकिक !!!!!!!

स्वेता निक्की